Sakshi Murder case | Crimes common Delhi 2023

साक्षी मर्डर केस चाकू/Stabbing in Delhi

दिल्ली में एक और दिल दहला देने वाली घटना Sakshi Murder Case……
आपका विचार…
“देखते है आज क्या कुछ नया हुआ है दिल्ली में…..” क्योंकि यह तो आम बात हेना।

यह सिर्फ साक्षी की ही ददर्नाक कहानी ही नहीं, ना जाने कितनी Sakshi जैसी लड़किया, ऐसे ही किसी की क्रूरता का शिकार हुई होगी। और यदि अभी भी कुछ नहीं किया गया तो न जाने कितनी और साक्षी जैसी दाहशत भरी कहानिया सुनने को और देखने को मिलेगी।

यह दिल्ली है यहां पर सब कॉमन है

दिल्ली, जहा हर रोज मार-धाड़, दंगे-फसाद होते रहते है, यही नहीं यह तो अब कॉमन हेना, दिल्ली में रहने वालो के लिए। दिल्ली जैसी सिटी में मासूमो को पब्लिक के सामने चाक़ू घोप घोप कर मारना कॉमन है क्योंकि यह दिल्ली है यहां पर सब कॉमन है।

उनके बारे में सोचे जिनके साथ हम रहते है।
लेकिन यह क्या इस कितने लोग आये गए, अरे आना जाना ही नहीं अपना कीमती समय निकाल कर उस 16 वर्ष की मासूम लड़की(Sakshi) को तड़पतेमरते हुए देखा। यही नहीं उस लड़की के मर जाने के बाद उस पर होने वाले असहीनय दृश्य को भी देखा, जिसे कुछ सेकंड पहले चाकू घोप कर मारा गया, वो भी 22 बार। जब तक उसकी आखरी साँस नहीं रुकी उसके सर को पत्थर से फोड़ दिया गया, जब तक उसके चेहरा खून से नहीं भरा पत्थर का वार भी इतनी बार हुआ।

“अरे यह तो किसी मेले का सर्कस है अब हम ही नहीं देखेंगे तो और कोन देखेगा”।

जिंदगी सभी को पसंद होती है और दर्द सभी को होता है। क्यों…. लोग एक दूसरे की मदद नहीं कर पाते लेकिन सर्कस का देखना हे, क्योंकि यह दिल्ली है यह सब चलता है सब कॉमन है।

The video of Sahil brutally stabbing to Sakshi front of the public

The video of Shahil stabbing to Sakshi front of public.

बात यह नहीं की यह भारत का North part है या South, लेकिन यह सब दिल्ली में ही क्यों, और किसी शहर में क्यों नहीं होते। क्या वहा पर इंसान नहीं रहते है, क्या सिर्फ दिल्ली में Uneducated लोग रहते है, क्या दिल्ली में ही लोगो को गुस्सा करना आता? क्या दिल्ली में ही लोग अपना वजूद खो चुके है? क्या दिल्ली के लोगो को यह नही पता है की वो इंसान है।

माफ़ कीजियेगा यह सिर्फ उन लोगो के लिए है जो समाज में होने वाले अन्याय को सिर्फ तमाशा समझते है। जब तक यह घटना खुद उनके घर में ना हो, तब तक यह सब उनके लिए सिर्फ एक कहानी ही है। इससे ज्यादा और कुछ नहीं, क्योंकि यह दिल्ली है यहां सब कॉमन है।

Why didn’t people save Sakshi?

Section 43 of CRPC:

सीआरपीसी की धारा 43 के तहत कोई भी व्यक्ति किसी भी अपराधी को गिरफ्तार कर पुलिस को सौंप सकता है।

Section 97 of IPC:

आईपीसी की धारा 97 के तहत आप अपने सामने होने वाले अपराध को रोक सकते हैं, अगर बचाव के दौरान कोई घटना होती है, तो उसे बचाव में माना जाएगा और आपको किसी तरह की परेशानी नहीं होगी।

मरे हुए लोगो के जस्टिस के लिए हाथो में कैंडल लेकर निकल पड़ते है लेकिन एक लड़की को सभी मिलकर मरने से नहीं बचा पाए, बचाना तो दूर उस लड़के को रोकने तक की भी कोशिश नहीं की गई।
लेकिन तमाशा देखने के लिए चलते-चलते रुक गए, और पूरा तमाशा देखा। क्यों भाई मैला लगा है जो अपना कीमती समय देकर, देखने के लिए रुक गए।

क्यों नहीं सोचा वह आज किसी और की बेटी है कल तुम्हारी भी हो सकती है, जो आज तुम्हारे सामने तड़प तड़प कर मार दी गई वह भी एक इंसान ही है उसे भी दर्द हुआ होगा यह भी नही सोचा….
खैर में भी क्या कर सकती हूँ में तो एक मामूली ब्लॉगर हूँ मेरा काम सिर्फ पोस्ट लिखना है।

आपको क्या लगता है दिल्ली में क्राइम रेट बढ़ने की वजह क्या हो सकती है?

आपको क्या लगता है सरकार को कोई फैसला लेना चाहिए दिल्ली या फिर। “यह दिल्ली है यहाँ पर सब कॉमन है”।

यही नहीं…. हमने सरकार से गुहार लगाई, अरे यह क्या, यहाँ तो पॉलिटिशंस ही शुरू हो गई।

PM modi ne kya kiya: Must read this post.

क्या सही क्या गलत अब पॉलिटिक्स पर डाल दिया गया। हम क्यों कुछ करे यह हमारा काम नहीं यह उनका है, क्योंकि अभी तक तो हमें दिल्ली में कुछ और…. होते हुए देखना है क्यूंकि यह दिल्ली है यहाँ पर सब कॉमन है। जिसकी जो पोजीशन वह अपना काम करे हमे क्यों किसी के बारे सोचना। क्योंकि यह दिल्ली है यहां पर सब कॉमन है।

Q. आपको क्या लगता है दिल्ली में क्राइम रेट बढ़ने के कारण क्या-क्या हो सकते है?

  • नशीले पर्दार्थों का खुले आम और सस्ते दामों में बेचना
  • दिल्ली में सिक्योरिटी की कमी होना
  • सच के खिलाफ आवाज ना उठाना
  • क्राइम्स का इतना आप होना की खेल खेल में मार पिट करना
  • शिक्षा का अभाव
  • अन्याय को आँखों से होते हुए देखना
  • जनसंख्या की वृद्धि
  • बेरोजगारी
  • सुविधाओं की कमी
  • पुलिस का डर
  • गन्दी सोच का होना
  • Q. What is section 43 of CRPC
    Ans. According to section 43 of CrPC, any person can arrest any criminal and hand over to the police station.
  • Q. What is section 97 of IPC
    Ans. Under Section 97 of IPC, you can take action for yourself as well as stop the crime in front of you, if any incident happens during the rescue, then it will be considered in defense and you will not face any kind of problem.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *