Tragedy Coromandel Train Accident in Odisha 2

Odisha train accident: डार्क फ्राइडे 2 June 2023, तीन ट्रेनों का आपस में भीषण टकराव, जो की सुनने में ही भयानक लग रहा है।

Coromandel Express Train Accident Today in Odisha

हर बार की तरह, इस बार भी हावड़ा चेन्नई कोरोमंडल ट्रेन, अपने स्थान से रवाना हुई थी। लेकिन पता नहीं था की, अब यह वापस कभी नहीं लोट पायेगी। और कहि लोगो का वजूद भी अपने साथ मिटा देगी।

जी हाँ, भारत की सबसे लोकप्रिय ट्रेनों में से एक कोरोमण्डल ट्रैन, जिसका हाल ही में इतना दिल दहला देने वाला भीषण बेहाल हुआ है, जिसने कोरोमण्डल ट्रैन में सफर कर रहे सैकड़ों लोगो का वजूद ही हमेशा के लिए मिटा दिया, और जिन लोगों की जान बच गई है उन्हें दुबारा ट्रैन में सफर न करने का खौफ भी दे गई।

कहि लोग अभी भी इस हादसे से बाहर नहीं आ पाए है। जिन लोगों ने अपनी जिंदगी इतने बड़े हादसे से बचाई है,वो अभी भी सदमे में है। क्यूंकि उनमे से कुछ लोग ऐसे भी है जो ट्रैन के इतने बड़े हादसे से बच जाने के बाद भी खुश नहीं है क्यूंकि उन्होंने ऐसे मंजर से जीत हासिल की है जिसे वह कभी भी नहीं भूल पाएंगे।

Accident News in Vision

जिस तरह से ट्रैन के परखच्चे उड़े है उस हिसाब से उस ट्रैन में बैठे हुए लोगो की हालत का अंदाजा लगाया जा सकता है।
यह सब कैसे…?
क्यों हुआ…?
किसकी गलती से हुआ…?
Is this technical error or Human error?
क्या यह किसी की साजिश थी…?

एक्सीडेंट कैसे हुआ | Accident kese hua | Train Derail

घटना यह है की हर बार की तरह इस बार भी शालीमार कोरोमंडल एक्सप्रेस ट्रैन पश्मी बंगाल हावड़ा स्टेशन से अपने समय पर रवाना हुई थी लेकिन ओडिशा राज्य के बालासोर जिले के बहनागा स्टेशन के बाजार के नजदीक कोरोमंडल ट्रैन एक भीषण घटना का शिकार हो गई। जिसमे कोरोमंडल एक्सप्रेस ट्रैन एक मालगाड़ी के ऊपर चढ़ गई और, वहा से गुजर रही यशवंतपुर-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रैन को भी अपने चपेट में ले लिया। यह सब इतना विध्वंसकारी था की जिसमे अपने चपेट में तीनो ट्रेनों के साथ, उसमे बैठे लोगो की सांसे छीन ली।

यह भारत के सबसे बड़ी ट्रैन दुर्घटनाओं में से एक थी। जिसने अपने साथ करीब 288 लोगो को जान ले ली और 1000 से भी अधिक लोग गंभीर रूप से घायल हुए है। गंभीर रूप से घायल लोगों का उपचार चल रहा है, लेकिन कुछ यात्रियों को इतनी गहरी चोट आई है जिससे की इस दुर्घटना में मरने वालो यात्रियों की संख्या का और बढ़ने अंदाजा लगाया जा सकता है।

इस वीडियो के द्वारा आप इस घटना को और भी अच्छी से समझ सकते है:-

Odisha Train Accident: बालासोर में कैसे हुआ इतना भीषण रेल हादसा ? ग्राफिक्स के जरिए समझिए | ABP News

सोशल मीडिया पर कही प्रकार की विचलित कर देने वाली तस्वीरें शेयर की जा रही है जिन्हे देखने की हिम्मत हर कोई नहीं कर सकता है।

इस एक्सीडेंट में ट्रैन के 17 डिब्बे पटरी से किसकर के आपस में टकरा कर गए और कुछ ट्रैन के डिब्बे तो ऐसे थे जो पूरी तरह से नष्ट हो चुके है। कोरोमंडल ट्रैन के कुछ डिब्बे तो माल गाड़ी के ऊपर चढ़ गए है।

Sakshi Murder Case

रूह कंपा देने वाला मंजर | Train accident Tragedy

यह एक्सीडेंट इतना भयानक था की जिसमे रेल की पटरी ही अपने स्थान से खिशक चुकी थी। इसमें यशवंतपुर-हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेस ट्रैन के आखरी के 3 डिब्बे तो पूरी तरह से तहस-नहस हो चुके है। यही नहीं यह सब दृश्य ऐसा लगता है जैसे खिलोने इधर उधर बिखरे हुए पड़े हो।

कभी सोचा नहीं था जो देश की सबसे लोकप्रिय ट्रैन थी वह इस तरह से कही परिवारों का सुख-चेन छीन कर ले जाएगी। यह सब सोचने में ऐसा लगता है की कहि लोग अभी भी मदद के लिए चीख रहे है चिल्ला रहा है। कोई मरता हुआ इंसान अपनी जान बचाने के लिए अपनी आखरी सांसे गिन रहा है। कुछ लोग ऐसे है जो किसी सीट के निचे फंसे हुए है या ट्रैन के डिब्बे के नीचे दब चुके है, जिनके सिर्फ शरीर के कुछ अंग ही दिखाई दे रहे। कैसे एक डिब्बे में बैठे सेकड़ो लोग मिटटी के खिलोनो के भांति ट्रैन के डिब्बे में पीस चुके है। किसी ने अपना हाथ खोया तो किसी ने अपना पांव।

किसी ने अपना साथी खोया तो किसीने अपने परिवार। जिसने यह मंजर अपनी आँखों से देखा वही यह जान सकता है की असल में किस तरह से यह घटना दिल दहला देने वाली रही। कैसे एक छोटी सी। …… गलती ने इतने लोगो को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक चोट पहुंची है, जो शायद कभी भी भुलाई ना जा सके।

MR Raju Save 150 Peoples’s Life | Local Resident

यह त्रासदी शाम के 7-8 बजे के आस -पास घटित हुई थी। जैसे ही इस घटना का पता स्थानीय निवासियों को चला तभी ट्रैन के डिब्बे में फसे हुए लोगो को बचने के लिए दौड़े चले आये। इन्ही में से एक थे राजू। जिन्होंने बताया की यह भीषण घटना कितनी भय वह थी। उन्होंने पूरी रात ट्रैन में फसे हुए लोगो को बचाने की कोशिश। इनकी इस पुण्य कार्य में इन्होने 150 से अधिक लोगो की जान बचाई।
राजू जी के शब्द: “कुछ लोगो मेरे इन हाथो में ही पानी मांगते हुए मर गए। काश में उनको पानी पीला सकता उनकी आखरी ख्वाइश पूरी कर सकता…!

Rail Mantri Ashwini Vaishnav

जैसे ही रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव को एक्सीडेंट की खबर मिली, तभी वह घटना स्थल पर चले आये। और रेस्क्यू टीम को बुलाया गया ताकि जल्दी से जल्दी ज्यादा से ज्यादा लोगो को बचाया जा सके और सही समय पर उपचार करवाया जा सके। और कुछ एम्बुलेंस भी लगवाई गई।
लेकिन रेलमंत्री ने घोषणा की है की इस दुर्घटना में मरने वाले लोगो के परिवार वालो को १० लाख रूपये का अनुदान दिया जायेगा। जिन्हे चोट लगी है उन्हें २-२ लाख रूपये और जिन्हे मामूली चोट आई है उन्हें ५० हजार का अनुदान दिया जाएगा।

Trains cancelled and diverted

बालासोर के दिल दहला देने वाली घटना की वजह से रेलवे विभाग को 58 ट्रेनों को कैंसिल करना पड़ा और 81 ट्रेनों को डाइवर्ट मतलब किसी दूसरे रस्ते से डेस्टिनेशन तक पहुंचाया गया।

Indian railway helpline numbers are: 139

ट्रैन में सफर करते वक़्त सुरक्षा से संबन्धित किसी भी सुविधा हेतु या दुविधा से बाहर निकल ने के लिए कॉल:-

  1. सुरक्षा और मेडिकल के लिए 1 no. दबाएं।
  2. पूछताछ, किराया या PNR, Tickets लिए 2 no. दबाए।
  3. कट्रीन संबन्धी जानकारी के लिए 3 no. दबाए।
  4. आम शिकायत के लिए 4 no. दबाए।
  5. सतर्कता एवं भ्र्ष्टचार की शिकायत के लिए 5 no. दबाए।
  6. रेलवे से जुडी दुर्घटनाओं के लिए 6 no. दबाए।
  7. शिकायत का स्टेटस जानने के लिए 9 no. दबाए।

Train operations resume

कोरोमंडल ट्रैन एक्सीडेंट बालासोर में हादसे के बाद ट्रेनों का परिचालन हादसे के तीन वापस शुरू कर दिया गया। देश के रेस्क्यू टीम ने अपना काम समय पर किया और यत्रियो को ज्यादा परेशानी न हो उसके लिए सही तरह से रेल पटरियों को सेटअप किया गया। जिसमे शुरुआत में ३ ट्रेनों को पटरी पर चला कर परिक्षण किया गया ताकि भविष्य में ऐसी दुर्घटना कभी भी न हो।

Q&A

  • Q. How many people died in train accident?
    Ans. 288 people died and more than 1000 people are injured.
  • Q. Which train accident today in India?
    Ans. There are thrice trains collision each other. First Shalimar Coromandel Express Train, Yeshwantpur-Hawda Superfast Train and a goods train.
  • Q. Where is train accident today?
    Ans. Biggest train accident in 20th century is happened in balasore district of odisha.
  • Q. Indian railway helpline number?
    Ans.
    139
  • Q. Teeno traino ke guards ka kya hua?
    Ans. Bataya jaa rha hai ki, trains ke guards ko kaafi serious chot aai hai. unka treatment chal rha hai. jese hi railway guards thik ho jaayenge unse baat karne par hi pta chalega ki accident kese hua or kiski galti se hua hai.

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *